2016, Images, Messages

bachpan ki khushiyan

आज कितने भी महंगे जूते पहन लो, लेकिन
वैसी
फीलिंग नहीं आती,
.
.
.
जैसी बचपन में “पुचु-पुचु” वाले जूते पहन कर
आती थी ??

Leave a Reply

Your email address will not be published.